CG4भड़ास.com में आपका स्वागत है Welcome To Cg "Citizen" Journalism.... All Cg Citizen is "Journalist"!

Website templates

Tuesday, September 7, 2010

अपने सम्मान के चक्कर में फेक दिया बच्चो के स्वाभिमान पर कचरा .....


अपने सम्मान के चक्कर में , फेका बच्चो के स्वाभिमान पर कचरा इस तस्वीर को जरा गोर से देखिये नहीं समझ आये तो एक बार और देखिये, अब आप समझ ही गए होगे की मै आपको क्या दिखाना चाहता हू, हा बिलकुल सही वैसे तो मेरे पास इनके लिए शब्द नहीं है फिर भी कह देता हु इन मूर्खो को ये भी नहीं पता की तस्वीर कैसे खिचाई जाती है , और बेशर्मी का आलम तो देखिये जब सारे बच्चो के हाथ में पोधे है जो शायद ऊसके बोझ को भी मह्सूस कर रहे है ऐसे में ये महानुभाव की कुटिल मुस्कान और भाव भंगिमा तो देखिये कितनी सहजता से मुस्कारते हुए तस्वीर खीचा रहे है इसमें इनका पूरा साथ टीचरों ने भी दिया . शायद ये भूल गए की साथ में जो मोजूद है उनका मकसदकुछ और है पर इनका मकसद सिर्फ तस्वीर खीचना इन जैसो के लिए मेरे पास एक ही वाक्य है अपने सम्मान के चक्कर में फेक दिया बच्चो के स्वाभिमान पर कचरा .....

Tuesday, June 1, 2010

Wednesday, April 7, 2010

रोने का बहाना नहीं ,लड़ने का हौसाला चाहिए

देश - प्रदेश में जब भी कोई बड़ी वारदात के मद्देनजर जन हानि होती है तब-तब बहुत से संगठन महाबंद और मोमबत्ती जलने से परहेज नहीं करते . आज कल ये फैशन सा बनता जा रहा है
जिसे देखो गाँधी की तर्ज में गाँधी बनाने की चाह लिए इस तरह के कार्यो का आयोजन करते दिखाई पड़ते है . सवाल आखिर यह है की क्या मोमबत्ती जलने और महाबंद जैसे आयोजनों से समस्या का समाधान हो जायेगा या फिर जनहानि को रोका जासकेगा दुसरे शब्दों में हम यह कहे की क्या इस कार्यो से धटित जनहानि की पूर्ति की जा सकेगी ...? शायद नहीं . अच्छा तो यह होता इसके बजाये यह संगठन हमसे दूर हुए जवानो के परिवार में से किसी एक परिवार के लिए कुछ करते. .यह संगठन इतने ही चिंतीत है तो अपनी एक दिन की तनख्वाह या अपना एक दिन में खर्च की गई राशी इन्हें भेट कर देते तब लगता की हा ये जमीनी रूप से इन सब के लिए चिंतित है बहरहाल लड़ने का हौसाला खो चुके इन संगठनों के लिए हम यही कहेगे, इन सभी को रोने का बहाना चाहिए ...

लहूलुहान धरती को तलाश है अरूंधति के आंसू की ..



कुछ दिन पहले आप यहाँ आयी थी जंहा आज हिंसा की पराकाष्ठ देखने को मिली है गरीबो की बात करना और एक
बेहतर संसार के निर्माण में आप की लेखनी कुछ ज्यादा ही बोलती है और लेखन के आलावा कला फिल्म में भी यही कुछ होता है गरीबो की बात सारा कुछ सही है.मैडम आप रूमानियत में बहती है आसू तो तब भी निकले होगे जब आपके पहले पति ने आपको तलाक दिया होगा , नहीं निकले होगे तो कुछ और बात है इस घटना को लेकर जो की निहायत ही व्यक्तिगत किस्म का है उसे लेकर हम आप पर कोई उपमा टिपण्णी नहीं लादेगे . बस्तर को लेकर आपने जो कहा लिखा और उसके बाद जो कुछ हुआ क्या उसको लिखने का आपका मन नहीं करता, यदि नहीं करता तो हम यही कहेगे लिखने पढने वाली यह मैडम कितनी संग दिल है दिल्ली में रहकर जंतर मंतर के आसा आस-पास जो कुछ करती है ऊससे कही ज्यादा प्रभावशाली होता आज के दिन आपकी आँखों से टपका हुआ दो बूंद आंसू .... . समर शेष है वही तटस्थ होगा , इतिहास में उसका भी अपराध दर्ज होगा ....

संपादक
रविकांत
CG4भड़ास.कॉम

Wednesday, March 31, 2010

सम्पादकीय हमरछत्तीसगढ .कॉम समाचार पत्रिका

मार्च - अप्रेल संयुक्तांक

हमर सम्पादकीय

Saturday, February 20, 2010

हमर छत्तीसगढ कॉम मासिक पत्रिका का फरवरी अंक


हमर छत्तीसगढ कॉम मासिक पत्रिका का फरवरी अंक

Saturday, January 30, 2010

हमर छत्तीसगढ.कॉम मासिक पत्रिका का प्रवेशांक


छत्तीसगढ से प्रकाशित एक मात्र बहुरंगीय मासिक पत्रिका , हमर छत्तीसगढ.कॉम मासिक पत्रिका प्रवेशांक उपलब्ध है .

अपने ब्लॉग पर पेज नंबर लगाइए


Send free text messages!
Please enter a cell phone number:

NO Dashes - Example: 7361829726

Please choose your recipient's provider:

Free SMS

toolbar powered by Conduit

Footer

  © Blogger template 'Tranquility' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP